Breaking News

Mobile ho gaya hai chori to turant kare yah kaam (मोबाइल हो गया चोरी तो तुरंत करे यह काम)

नमस्कार दोस्तो आपका एक बार फिर स्वागत है एक और नई पोस्ट में और आज हम बात करने वाले है मोबाइल चोरी होने के बाद हमे क्या करना चाहिए क्योंकि हर जगह हम मोबाइल लेकर चलते हैं लेकिन हर वक्त हमको मोबाइल चोरी का डर भी सताता रहता है। क्योंकि मामले ही इतने हम सुन चुके होते हैं। जब भी इस तरह की बातें सुनने को मिलती हैं आप एक बात सोचते होंगे क्या कोई ऐसा System नहीं बना जिससे कि खुद से मोबाइल को लॉक कर सकें और उसे ट्रैक भी कर सकें। फोन चोरी होने पर थाने में रिपोर्ट तो लिखाते हैं लेकिन उस पर कितनी कार्रवाई होती है पता नहीं चलता। मोबाइल उपभोक्ताओं की इन्हीं जरूरतों को समझते हुए भारत सरकार ने एक वेब पोर्टल लॉन्च किया है जो आपके चोरी या खोए हुए मोबाइल फोन को ढूंढ़ने में मदद करेगा। हालांकि इस सेवा का लाभ दिल्ली और मुंबई के लोग ही ले पाएंगे लेकिन धीरे—धीरे पूरे देश में इस सेवा को शुरू किया जाएगा। मोबाइल यूजर्स के लिए इस System का निर्माण सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ टेलिमैटिक्स ने ​किया है जिसे आप CDOT के नाम से भी जानते हैं। वहीं पूरे सिस्टम को तैयार करने में दिल्ली पुलिस का भी योगदान अहम रहा है। इसके अलावा CDOT द्वारा सरकारी सस्थांन डिपार्टमेंट ऑफ टेलिकॉम (DOT) की भी मदद ली गई है। इस पोर्टल के माध्यम से अपने फोन का IMEI Number यानि भी बंद कर सकते हैं और फोन मिल जाने पर उसे फिर से अनब्लॉक भी कर सकतेे हैं।


ब्लॉक करने से पहले जान ले ये बाते

ध्यान रहे कि यह पोर्टल आपके आईएमईआई नंबर को ब्लॉक करने, अनब्लॉक करने और फिर उसे ट्रैक करने के लिए है। बावजूद इसके यदि आपका फोन खो जाता है या फिर चोरी हो जाता है तो सबसे पहले नजदीकी थाने में इसकी शिकायत करना जरूरी है। शिकायत करने के बाद शिकायत नंबर जरूर लें।


IMEI No ब्लॉक करने का आसान तरीका

1. आपको https://ceir.gov.in/ वेब पोर्टल पर जाना है।


2. इस पोर्टल पर आपको तीन विकल्प मिलेंगे। पहला ब्लॉक स्टोलेन या लॉस्ट मोबाइल, दूसरा अन-ब्लॉक फाउंड मोबाइल और तीसरा चेक रिक्वेस्ट स्टेटस।

3. फोन को ब्लॉक करने के लिए आपको पहले ऑप्शन पर ब्लॉक स्टोलेन या लॉस्ट मोबाइल पर क्लिकर करना है।
4. इस पर क्लिक करने के साथ ही आपके सामने एक लंबा चौड़ा फॉर्म खुल जाएगा जिसे भारना जरूरी है।
5. इसमें सबसे पहले आपको आपसे मोबाइल नंबर लिया जाएगा। यदि डुअल सिम फोन है तो दोनों मोबाइल नंबर डालने हैं।

6. इसके बाद फोन का IMEI No डालना है। यदि डुअल सिम फोन है तो दो IMEI No होगा। आपको IMEI No नहीं मामूम है तो यह फोन के बॉक्स पर भी दिया होता है। इसके अलावा यदि एंडरॉयड फोन है तो आप अपने जीमेल अकाउंट से भी निकाल सकतेे हैं। 
7. इसे भरने के बाद मोबाइल का ब्रांड, माडल नंबर और फिर खरीदारी की रसीद डालनी है।
8. इस प्रक्रिया को पूरी करने के बाद आपका फोन किस जगह, किसी दिन, किसी राज्य और किस राज्य में खोया है उसकी जानकारी देनी है।
9. इसके बाद जिस पुलिस स्टेशन में आपने शिकायत की है उसकी जानकारी डालनी है और शिकायत नंबर के साथ शिकायत की कॉपी भी अपलोड करना है।
10. इस प्रक्रिया को पूरी करने के बाद आपके बारे में जानकारी मांगी जाएगी। जैसे ऑनर यानी फोन के मालिक का नाम और पता डालने के बाद अपना आईडी प्रूफ अपलोड करना है।
11. वहीं पर आईडी नंबर और ईमेल आईडी डालने का ​विकल्प मिलेगा। नीचे में मोबाइल नंबर का ऑप्शन हो जिसे आप शिकायत के साथ रजिस्टर करना चाहते हैं। उसी नंबर पर ओटीपी आएगा। ओटापी आने के बाद ही आपका रिक्वेस्ट आईडी नंबर आ जाएगा और इसके साथ ही आपका काम हो गया। IMEI ब्लॉक हो जाएगा और रिक्वेस्ट आईडी नंबर डालकर आप उसे ट्रैक कर पाएंगे।
चोरी हुए फोन के बारे में जाने live

https://ceir.gov.in/ पोर्टल पर तीसरा ऑप्शन स्टेटस चेक करने का है और जैसे जी आप उस पर क्लिक करेंगे। एक पेज खुल कर आ जाएगा उसमें आपको अपना रिक्वेस्ट आईडी डालना है। इसके साथ ही स्टेटस अपडेट हो जाएगा। जब आपका फोन मिल जाता है तो फिर आप उसे अनब्लॉक कर सुचारु रूप से उपयोग कर सकते हैं। एसे में https://ceir.gov.in/ पोर्टल पर दूसरा ऑप्शन IMEI No अनब्लॉक करने का है। इसे क्लिक करते ही एक पेज खुल कर आ जाएगा जहां आपसे रिक्वेस्ट नंबर और मोबाइल नंबर मांगा जाएगा। जब आपने फोन को ब्लॉक किया था उस वक्त जो रिक्वेस्ट नंबर मिला था उसे ही डालना है। याद रहे यहां दो मोबाइल नंबर आ ऑप्शन है। पहला जो आपने रिक्वेस्ट आईडी डालने के वक्त ओटीपी के लिए उपयोग किया था उसे डालना जरूरी है। वहीं दूसरा मोबाइल नंबर वह जिस पर आप One time password (OTP) चाहते हैं अनब्लॉक के करने के लिए। इसके साथ ही आपका फोन अनब्लॉक हो जाएगा और आप पुन: उसका उपयोग कर सकते हैं।

IMEI No ब्लॉक करने का क्या फायदा होगा

आपके फोन में ढ़ेर सारा डाटा होता है तो आपके फोन से कहीं ज्यादा कीमती कहा जा सकता ह। ऐसे कमें आईएमईआई नंबर ब्लॉक पर फोन को पूरी तरह से निष्क्रिय किया जा सकता है। यदि किसी व्यक्ति के हाथ आपको फोन लग भी गया तो वह कुछ भी नहीं कर सकता। सु​रक्षा के लिहाज से यह काफी जरूरी होता है।

तो ये थी कुछ जानकारी मुझे उम्मीद है कि आपको पोस्ट पसंद आई होगी । अगर कुछ जानकारी अच्छी लगी हो तो शेयर जरूर करे पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद

No comments